Thought on Thought by Osho, the Great

Leave a Comment
" बुद्ध कहते है: ईश्‍वर को मानना मत, क्‍योंकि शास्‍त्र कहते है; मानना
तभी जब देख लो। बुद्ध कहते है। इसलिए भी मत मानना कि मैं कहता हूं। मान
लो तो चूक जाओगे। देखना दर्शन करना। और दर्शन ही मुक्‍ति दायी हे।
मान्‍यताएं हिंदू बना देती है। मुसलमान बना देती है, ईसाई बना देती है।
जैन बना देती है। बौद्ध बना देती है। दर्शन तुम्‍हें परमात्‍मा के साथ
एककर देता है। फिर तुम न हिंदू हो, न मुसलमान,न ईसाई, न जैन, न बौद्ध;
फिर तुम परमात्मा मय हो।ओर वही अनुभव पाना है। वहीं अनुभव पानेयोग्‍य है।
"
ஜ۩۞۩ஜ ॐॐॐ ओशो ॐॐॐ ஜ۩۞۩ஜ
Next PostNewer Post Previous PostOlder Post Home