👉बेजुबान पत्थर पे लदे है करोडो के गहने मंदिरो में। उसी दहलीज पे एक रूपये को तरसते नन्हे हाथो को देखा है।। 👉सजे थे छप्पन भोग और मेवे मूरत के आगे। बाहर एक फ़कीर को भूख से तड़प के मरते देखा है।। 👉लदी हुई है रेशमी चादरों से वो हरी मजार। पर बाहर एक बूढ़ी […]

Read more of this post